धनतेरस के दिन खरीदना न भूलें सोने व चांदी से भी ज्‍यादा...

धनतेरस के दिन खरीदना न भूलें सोने व चांदी से भी ज्‍यादा कीमती ये साधारण सी चीज

131
0

दीपावली के पहले धनतेरस या धन त्रयोदशी पर खरीदारी की परंपरा है इतना ही नहीं मान्यता तो ये भी है कि धनतेरस पर खरीदी गयी वस्तुओं का नाश नहीं होता और इसमें तेरह गुना वृद्धि हो जाती है। ये बात तो हम सभी जानते हैं की धनतेरस का त्योहार आने वाला है, ये दिवाली से ठीक 2 दिन पहले मनाया जाता है और ये भी बता दें की ये कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को मनाया जाता है और इस बार यह 5 नवंबर दिन सोमवार को मनाया जाएगा।

वहीं ये बात तो सभी जानते हैं की दिवाली का त्यौहार धनतेरस से शुरू होकर भैया दूज तक चलता हैं। धनतेरस के दिन लोग सोना-चाँदी, बर्तन, वाहन इत्यादि सामान खरीदते हैं और ये सारे सामान खरीदना बेहद शुभ माना जाता हैं। धनतेरस के दिन ये सभी सामान खरीदना शुभ माना जाता हैं लेकिन ये सभी सामान थोड़े महंगे पड़ते हैं इसलिए आप धनतेरस के दिन झाड़ू जरूर खरीदे क्योंकि झाड़ू को देवी लक्ष्मी का स्वरूप माना जाता हैं लेकिन आप सोच रहे होंगे की दिवाली की साफ-सफाई पहले हो जाती हैं तो धनतेरस के दिन झाड़ू खरीदने का क्या औचित्य हैं तो बता दें कि आप धनतेरस के दिन झाड़ू खरीदते हैं तो देवी लक्ष्मी आपके ऊपर प्रसन्न होती हैं और अपनी कृपा दृष्टि पूरे साल आपके ऊपर बनाए रखती हैं।

इस परंपरा के पीछे एक कहानी भी छिपी हुई हैं जो शायद आप नहीं जानते होंगे जी हां आपको बता दें की झाड़ू की चर्चा महाभारत में भी मिलती है। भगवान श्रीकृष्ण ने झाड़ (झाड़ू) से अर्जुन-द्रौपदी की शादी होने, दुर्बलता से शक्ति प्राप्त करने और धनाढ्य होने की कहानी बतायी है। आचार्य के अनुसार महाभारत के नायक अर्जुन और द्रौपदी की शादी होने में झाड़ू की अहम भूमिका रही थी। दंत कथाओं के अनुसार द्रौपदी की शादी अर्जुन से नहीं हो पा रही थी तब एक टोटका किया गया। घर में झाड़ू से झाड़ लगायी गयी इसके बाद द्रौपदी और अर्जुन की शादी हो गयी। झाड़ू को घर में छिपा कर रखने और सही स्थान पर रखने की परंपरा है। मान्यता है कि झाड़ू को खड़ा रखने से शत्रु बाधा से परेशानी होती है। झाड़ू को लिटा कर या छुपा कर रखने से दुष्ट शक्ति और शत्रु की परेशानी नहीं झेलनी पड़ती है।

बता दें क‍ि हमारे शास्‍त्रों में भी ऐसा लिखा गया है की मंदिर में झाड़ू का दान करने से आपको देवी लक्ष्मी की कृपा प्राप्त होती हैं। इस काम को आप धनतेरस के दिन या शुक्रवार के दिन करे और यह दान बिना किसी को बताए करनी हैं। झाड़ू का दान करने के लिए आप एक दिन पहले झाड़ू लेकर आए। इसके अलावा आप अपने घर में नमक का पोछा लगाएँ और गुरुवार के दिन ना लगाएँ।

कई लोग या तो दिवाली के दिन या फिर उससे पहले ही लक्ष्मी और गणेश की मूर्ति खरीद लेते हैं, लेकिन इनकी मूर्ति को धनतेरस के दिन खरीदना चाहिए। यह बहुत कम लोग जानते हैं कि धनतेरस के दिन गणेश लक्ष्मी की मूर्ति खरीदने से घर में सालभर पैसों की कमी नहीं होती है और इसके अलावा आपके घर से सभी मुसीबतें दूर रहती हैं।