हवस की भूखी थी यह महारानी, घोड़े से संबंध बनाने के दौरान...

हवस की भूखी थी यह महारानी, घोड़े से संबंध बनाने के दौरान हुई थी मौत

1988
0
इतिहास में राजा-रानी से जुड़ी ऐसी कथाएं मौजूद हैं जिन्हें सुनकर आज भी लोग अचरज में पड़ जाते हैं। किसी की प्रसिद्धि उनके बाहुबल के वजह से हुई तो कुछ लोग अपने आश्चर्यजनक निर्माण के लिए जाने गए। लेकिन आज हम एक ऐसी रानी की जिंदगी से रूबरू करवाने जा रहे हैं जिसे सुनने के बाद आप सिर्फ हैरान ही नही होंगे बल्कि सोच में पड़ जाएंगे कि इंसान हवस की आग में इस तरह कैसे मजबूर हो सकता है। जी हां आज हम एक ऐसी रानी के बारे में बताने जा रहे हैं जो संभोग की प्यासी थी। अपने सेक्स की भूख के लिए वो किसी भी हद तक जा सकती थी। चलिए जानते हैं उस रानी के बारे में जिसने सिर्फ इंसानों को ही नही बल्कि अपनी हवस की आग बुझाने के लिए जानवरों को भी अपना शिकार बना लिया…

हम बात कर रहे हैं इतिहास में रही रूस की महारानी कैथरीन दि ग्रेट ‌द्वितीय की जो शादी के बाद अपने पति से भी संभोग संतुष्टि नही मिलने पर महल में ही जवान मर्दों को रखने लगी। आलम कुछ ऐसा था कि वो अपनी दासियों को हटाकर नौजवान हट्टे-कट्ठे मर्दों को काम देती थी। उसके बादल में अपनी कामवासना को पूर्ण करना ही रानी का असली मकसद था। इतिहास के पन्नो को उलटने पर पता चलता है कि जब वह अपने पति से संतुष्ट नही हुई तो रियासत के सेनापति से भी शारीरिक संबंध बनाए तब जाकर उसे देश का उत्तराधिकारी प्राप्त हुआ था।

ऐसा बताया जाता है कि रसिया में रात को बैचलर पार्टी की शुरुआत भी उसी ने किया था। इस दौरान वह अपने गुलामो से शारीरिक संबंध बनाती थी। रानी के खिदमत में कुछ ऐसे भी सैलून बनाये गए थे जहां संभोग के अलग अलग पोजिशन में मूर्तियां स्थापति की गई। इन चीजों के आकार को देखकर आप रानी की अय्याशी का अंदाजा लगा सकते हैं। वैसे तो ये माना गया कि रानी की मौत हार्ट अटैक से हुई लेकिन यह राज कुछ दिनों बाद खुला।

इतिहासकारों के मुताबिक रानी के मौत तब हुई जब वो एक घोड़े के साथ शारीरिक संबंध बना रही थी। दरअसल वो सेक्स के प्रति इस कदर पागल थी जिसके लिए वो जानवरों को भी नही छोड़ती थी। कई नस्ल के कुत्तों व घोड़ों को पालने का मकसद भी शारीरिक संबंध ही होता था।