अघोरी साधुओं के 7 भयानक सत्य, जिन्हें सुनकर के रूह कांप उठेगी...

अघोरी साधुओं के 7 भयानक सत्य, जिन्हें सुनकर के रूह कांप उठेगी आपकी

3917
0

यह दुनिया बहुत सारे रहस्यों से भरी पड़ी है. हमारे देश भारत में भी ऐसे कई अनगिनत रहस्य्मयी चीज़े है जो अपने आप मे काफी हैरान करने वाला है. जैसा के हम सभी जानते है की हमारे देश में अनेको धर्म और परम्पराओ को मानने वाले लोग रहते है. इन्ही में से एक रहस्मयी जनजाति है अघोरी साधुओ का, आपने कभी न कभी इन अघोरी साधुओं के बारे में सुना ही होगा लेकिन हम आप को बता दे की अघोरी की कल्पना की जाए तो श्मशान में तंत्र क्रिया करने वाले किसी ऐसे साधु की तस्वीर जेहन में उभरती है जिसकी वेशभूषा डरावनी होती है.

लेकिन क्या आपको इन के रहन-सहन खान-पान और इनके जीवन जीने के अंदाज के बारे में पता है. आज इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको इन अघोरी साधुओं के कुछ भयानक तथ्यों के बारे में बताने जा रहे हैं जिनके बारे में शायद आपने पहले कभी सोचा भी नहीं होगा. तो फिर आइये हम आप को पूरी सच्चाई से अवगत कराते है.

आपकी जानकारी के लिए हम सबसे पहले आपको यह बता दे की अपनी विशेष तरह की वेशभूषा के लिए मशहूर इन अघोरी साधुओ का स्वभाव बिलकुल ही शांत होते हैं. भले ही इनका जीवन हमें कठोर प्रतीत होता है लेकिन ये काफी व्यवहारशील व्यक्तित्व के होते है.

इन अघोरी साधुओ की साधना भक्ति में बहुत ताकत होती है और इनके पास हर मर्ज का कोई न कोई इलाज निश्चित होता है. इनकी भक्ति से प्रेरित होकर बहुत से लोग इनकी साधना और उपाशना करते है.

अघोरी साधु आम लोगो की तरह किसी सेहर के बीचोबीच या समाज में नहीं रहते है, ये सेहर से दूर श्मशान जैसे स्थान में कुटिया बनाकर के रहते हैं और इनकी कुटिया में एक छोटी सी धूनी हमेशा दहकती रहती है.

आजकल की भागदौड़ और अनियमित जीवनशैली की वजह से आम लोगो की उम्र औसतन 50 से 60 सल्ल तक ही सिमित हो चुकी है लेकिन एक अघोरी साधु की उम्र लगभग 150 साल होती है आपको बता दें कि राम बाबा नामक अघोरी 150 साल तक जीवित रहे थे. ये भी बता दे की ये लोग गाय के मांस को छोड़कर के अघोरी साधु सभी प्राणियों के मांस को आहार के रूप में प्रयोग में लाते हैं.

इनके बारे में सबसे रोचक और हैरान करने वाला तथ्य यह है की ये अघोरी साधु मृत शरीर के साथ संबंध बनाना सर्वश्रेष्ठ मानता है और माना जाता है कि इससे उन्हें आलौकिक शक्तियों की प्राप्ति होती है. अघोरी साधु जानवर और कुत्तों को पालना पसंद करते हैं और यह अपने जीवन में कभी भी अपने बालों को नहीं कटवाते हैं.